Sunday, December 13, 2009

स्वामी ललितानंद महाराज प्रवचनमाला भाग - 2 "गुरु सिकलीगर कीजिए"




बाबा स्वामी ललितानंद महाराज




प्रिय भक्तों,
आज प्रवचन माला का दूसरा दिन है.आपका हार्दिक स्वागत है। भक्तों की उपस्थिति दिनों-दिन बढ़ते रही है. लगता है अब आगे के प्रवचनों में पंडाल का विस्तार करना पड़ेगा. आपकी विहंगम उपस्थिति से हम प्रफ़ुल्लित हैं.

उपस्थित सज्जनों और सन्नारियों और प्यारे बच्चा लोगों को आशीर्वाद.

बच्चा लोगों इस दुनिया में नकली ढोंगी बाबा लोगों का जाल बढ़ता जा रहा है और असली संतों को भी इसका नुकसान उठाना पड रहा है. ये नित नए विवादों को जन्म देते है, जबकि संतों का काम है समाज में सौहाद्र स्थापित करके एक आनंदमयी वातारवरण का निर्माण करना.

अब प्रश्न ये उठता है कि असली-नकली की पहचान कैसे हो?

धार्मिक श्रद्धा और विश्वास के कारण हम गुरु तो बना लेते हैं, लेकिन बाद में फंस जाते हैं, इस लिए कहा गया है" पानी पियो छान कर, गुरु बनाओ जान कर", यह अति आवश्यक है, नहीं तो "लोभी गुरु लालची चेला दोनों खेले दांव, भाव सागर में डूबते, बैठ पत्थर की नाव" दोनों ही डूबे,

इसलिए भक्तों एक बात गांठ बांध लो, "ये भी देखो, वो भी देखो, देखत-देखत इंतना देखो, मिट जाये धोखा रह जाये एको", भक्तों हमारे आध्यात्मिक गुरुओ में ये गुण अवश्य होने चाहिए " उनका स्वभाव शुद्ध हो, जितेन्द्रिय हो,धन का लालच हो ही नहीं, शास्त्रों का ज्ञाता हो, सत्य तत्व को पा चूका हो, परोपकारी हो,दयालु हो, सत्यवादी हो, शांतिप्रिय हो, योग विद्या में निपुण हो, जिसमे शिष्य के दुर्गुण दूर करने की क्षमता हो, स्त्रियों में अनाशक्त हो, क्षमावान हो, धैर्यशाली हो, चतुर हो, अव्यसनी हो, प्रिय भाषी हो, निष्कपट हो,निर्भय हो, पापों से बिलकुल परे हो, सदाचारी हो, सादगी से रहता हो, धर्मप्रेमी हो, जीवमात्र का सुहृद हो, और शिष्य को पुत्र से भी बढ़ कर चाहता हो, समस्त चराचर जगत के कल्याण के लिए हो," इतने गुणों से युक्त होने से ही संत होकर इस संसार का कल्याण करने की क्षमता प्राप्त होती है",

भक्तों अब विराम और विश्राम का समय हो चुका है, अब आप असली-नकली का निर्णय स्वयं कर सकते हैं, कठिनाईयों और झंझावातों से भरे इस जीवन में शांति का अनुभव कर सकते हैं.



"पछा पछि के कारने, सब जग रहा भुलान
निरपक्ष होय के हरी भजे, सोई संत सुजान"

"जा का गुरु है आंधरा , चेला काह कराय
अंधे अँधा पेलिया, दोनों कूप पराय"

"जाना नहीं बुझा नहीं,समुझि किया नहीं गौन
अंधे को अँधा मिला, राह बतावे कौन"

"गुरु सिकलीगर कीजिए, मनहि मस्कला देई
शब्द छोलना छोलिके, चित्त दरपन कर लेई"


स्वामी ललितानंद जी महाराज

आप सभी उपस्थित भक्तों को स्वामी ललितानंद जी महाराज का आशीष।

19 comments:

  1. गुरु गोविंद दोऊ खड़े .... जय हो गुरुदेव।

    ReplyDelete
  2. स्वामी ललितानंद जी महाराज,

    ये तो बता देते बाबाओं के लिए सोमरस या चक्षु-आनंदन वर्जित है या नहीं...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  3. स्वामी ललितानंद जी महाराज की जय...


    बहुत ज्ञानवर्धन हुआ. अब पहचानने में दिक्कत न होगी. आभार.

    आशीर्वाद बनाये रहें बाबा!!

    ReplyDelete
  4. अच्‍छा चल रहा है .. धर्म का प्रकाश फैलाते रहें !!

    ReplyDelete
  5. ज्ञानवर्धन के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  6. बाबाजी प्रसाद कहाँ से मिलेगा और हुंडी कौन संभाल रहा है

    ReplyDelete
  7. बाबा प्रणाम, जय हो बाबा की।

    ReplyDelete
  8. बाबा जी अब ये भी बतायें कि ऐसे बाबा कहाँ मिलेंगे आज की इस दुनिया मे? और खुशदीप जी वाला सवाल तो बहुत जरूरी है? धन्यवाद्

    ReplyDelete
  9. बाबा ललितानंद महाराज की जय हो. बाबाजी कलेजे मे ठंडक सी पड ज्यावै जब थारे परवचन सुन लेते हैं तो.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. आश्रम में भक्तों के लिए लंगर का प्रबन्ध नहीं है क्या ?

    ReplyDelete
  11. मां अदा चैतन्य कीर्ति महाराज साहिबा जी को प्रणाम, आपके दर्शन पाकर भक्त धन्य हुए।

    ReplyDelete
  12. जय हो बाबा की।

    ReplyDelete
  13. वाह बाबा आप भी कहीं बाबा रामदेव की तरह काले धन को ढूँढने में तो नही लग जाओगे न?

    ReplyDelete
  14. पानी पियो छान कर, गुरु बनाओ जान कर...jay ho baba ki .....

    ReplyDelete
  15. जय हो बाबा........

    ReplyDelete
  16. जय हो बाबा........

    ReplyDelete